खेल पुस्तकालय, भाखेप्रा मुख्य कार्यालय

मिशन : मुख्य कार्यालय के कर्मचारियों/ प्रशिक्षकों/ प्रशिक्षार्थियों/ शोधकर्ताओं को विभिन्न खेलों पर जानकारी उपलब्ध कराने के लिए एक जीवंत, आकर्षक संसाधन केन्द्र विकसित करना और साथ ही साथ कम से कम समय में पुस्तकालय में रूचि रखने वाले सभी उपयोगकर्ताओं के लिए भौतिक और ई-संसाधनों का पूरा प्रसार करना।

खेल पुस्तकालय विभिन्न खेलविधाओं में पाठन सामग्री उपलब्ध कराने के मुख्य उद्देश्य के साथ भारतीय खेल प्राधिकरण, युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय, भारत सरकार के अन्तर्गत वर्ष 1984 में स्थापित किया गया था। इसका माननीय राजीव गांधी द्वारा उद्घाटन किया गया था। तब से, अपने उपयोगकर्ताओं की आवश्यकता को पूर्ण करने के लिए इसके आकार और संसाधनों में वृद्धि हुई है। पुस्तकालय विशिष्ट होने के फलस्वरूप एक विशेष/ तकनीकी पुस्तकालय की श्रेणी में आता है। पुस्तकालय में सभी प्रमुख विषयों पर किताबें हैं अर्थात् तीरंदाज़ी, एथलेटिक्स, बैडमिंटन, बास्केटबॉल, मुक्केबाजी, शतरंज, साईक्लिंग, क्रिकेट, फुटबॉल, जिम्नास्टिक, गोल्फ, हॉकी, हैंडबॉल, जूडो, लॉन टेनिस, निशानेबाज़ी, तैराकी, टेबल-टेनिस, वालीबॉल, भारोत्तोलन, कुश्ती, ओलम्पिक एवं एशियाई खेल इत्यादि। प्रमुख खेलविधाओं के अलावा पुस्तकालय के पास सम्बद्ध विषयों पर भी सम्पूर्ण पुस्तकें उपलब्ध हैं जैसे बायोमैकेनिक्स, खेल औषधि, चोट, शरीर विज्ञान, एंथ्रोपोमेट्री, काईनोलोजी, खेल मनोविज्ञान, खेल पोषण, खेल शिक्षा, शारीरिक स्वस्थता, शारीरिक शिक्षा, योग, खेलों इत्यादि से सम्बन्धित नियम और तकनीकी विशिष्टताएं। Read More

  • 1
  • 4
  • 5
  • 8
  • 12
  • 16
  • wow slider
  • 18
  • 18
  • 18
  • 18
  • 18
  • 18

प्रिय पस्तकालय उपयोगकर्ताओं,
ऑनलाईन खेल पुस्तकालय, भाखेप्रा मुख्य कार्यालय में आपका स्वागत है। पीटर ड्रकर ने वर्ष 1993 में कहा था कि ‘‘ आज ज्ञान ही एक अर्थपूर्ण संसाधन है’’ और मेरा यह विश्वास है कि पुस्तकालय इस संसाधन की कुंजी है। संगठन का महत्व बढ़ाने में यह अति महत्वपूर्ण सम्पत्तियों में से एक है और अतः यह प्रतिस्पर्धात्मक सुविधाओं की ओर प्रोत्साहित करता है। .... Read more

(Injeti Srinivas)



नई पुस्तकें

Start Scrolling
Pause Scrolling